March 1, 2024

गर्मी में चैत्र नवरात्रि का रख रहें व्रत तो इन चीजों का जरूर करें सेवन

चैत्र नवरात्रि 13 अप्रैल से शुरू हो रही है.ऐसे मे ज्यादातर लोग व्रत रखते है. कुछ लोग माता को खुश करने के लिए पूरे नौ दिन का व्रत रखते तो कुछ प्रथम और अंतिम दिन व्रत रखते. लेकिन अधिकतर लोगों को ये पता ही नहीं होता कि वह व्रत में क्या खाएं और क्या न खाएं. गर्मी के दौरान उपवास रखने से डिहाइड्रेशन का खतरा बढ़ जाता और शरीर के आंतरिक अंगों पर भी इसका असर पड़ता है. डॉक्टर की सलाह के अनुसार नवरात्रि के दौरान उपवास रखने पर खानपान में एहतियात बरतें.

चूंकि नवरात्र के समय लोग एक ही बार खान खाते और फलाहार में रहते, ऐसे में डिहाइड्रेशन का खतरा रहता है. ऐसे में जरूरी हो जाता है कि आप फलहार में ऐसी चीजों को शामिल करें जिसे खाने से डिहाइड्रेशन से बचा जा सके. आइए आपको बताते हैं कुछ ऐसे फल और सब्जियों के बारे में जिन्हें व्रत के दौरान खाने से शरीर हाइड्रेटेड रहेगा.

तरबूज
गर्मी में खाए जाने वाला फल तरबूज न सिर्फ स्वाद में बढ़िया होता है बल्कि यह शरीर को भी कई तरह से पोष्टिक भी होता. इस फल में 92% लिक्विड होता है जिससे बॉडी को पर्याप्त हाइड्रेशन मिलता है. इसके साथ ही, तरबूज में विटमिन ए, विटमिन सी, विटमिन बी1, विटमिन बी5, विटमिन बी6, पोटैशियम, मैग्नीशियम, जैसे कई पोषक तत्व पाए जाते है जो फलाहार मे हुई पनि की कमी को आसानी से पूरा कर देते.

लौकी
कई जगहों पर लौकी को घीया के नाम से भी जाना जाता है. लौकी में 90 फीसदी तक पानी होता है और बाकी 10 फीसदी फाइबर होता. साथ ही लौकी में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा बिल्कुल नहीं होती है. इसलिए इसे व्रत के समय जमकर खाया जाता है. लौकी में कई तरह के प्रोटीन, विटामिन और लवण पाए जाते हैं. इसमें विटामिन ए, विटामिन सी, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम पोटेशियम और जिंक भी पाया जाता है. लौकी को आप जूस के रूप मे या हलवा बनाकर भी कहा सकते.

पपीता
पपीता गर्मियों मे पाए जानेवाला एक फल है जो भारतीय बाजारों में आसानी से उपलब्ध है. यह फल खाने में आसान और स्वादिष्ट होने के साथ साथ शरीर से पानी की कमी को दूर करता. पपीता में विटामिन ए, सी, और बी, कैल्शियम, आयरन और फास्फोरस जैसे बहुत से मिनरल्स पाए जाते हैं.नवरात्रि के व्रत के दौरान इसे खाने से भूख कम लगती .

केला
74 प्रतिशत वाटर कंटेंट होने की वजह से केले का सेवन हाइड्रेशन के लिए बहुत अच्छा माना गया है. केले में भरपूर मात्रा में पोटैशियम और फाइबर होता है, जो इम्यूनिटी को मजबूत करने के साथ-साथ आपको व्रत के दौरान हेल्थी रखने में मदद करता है. पक्के केले के साथ साथ कच्चे केले मे भी इसी रह के गुण पाए जाते है. नवरात्रि में आप कच्चे केले का हलवा और टिक्की बनाकर खा सकते हैं.

सिंघाड़े
सिंघाड़े में विटामिन A,C, मैंगनीज, थायमाइन, कर्बोहाईड्रेट, टैनिन, सिट्रिक एसिड, रीबोफ्लेविन, एमिलोज, फास्फोराइलेज, एमिलोपैक्तीं, बीटा-एमिलेज, प्रोटीन, फैट और निकोटेनिक एसिड जैसे पोषक तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं, जो सेहत के लिए फायदेमंद होते हैं. सिंघाड़े में प्रचुर मात्र मे केल्सियम और कार्बोहाइड्रेट पाए जाते जो व्रत के दौरान आपको लगातार ऊर्जा देते रहते. आप इसके आटे को हलवे से रूप में ले सकते या फिर अप इसका सब्जी बना सकते.

 

Spread the love