May 27, 2024

Balod: सीएम बघेल ने सरहरगढ़ महोत्सव में माता बहादुर कलारिन एवं छछान छाड़ू देव मंदिर में पूजा, समाज को भवन हेतु की 50 लाख देने की घोषणा, भूपेश बोले: यहां आना और माटी को नमन करना मेरा सौभाग्य…. देखें वीडियों

बालोद- सीएम भूपेश बघेल गुरुर ब्लॉक के ग्राम सोरर पहुचे। हैलीपेड में पहुचते ही विधायक संगीता सिन्हा, पूर्व विधायक भैय्याराम सिन्हा, समाज के पदाधिकारियों सहित आईजी डॉ. आनंद छाबड़ा, कलेक्टर कुलदीप शर्मा, एसपी डॉ. जितेंद्र यादव ने पुष्पगुच्छ देकर आत्मीय स्वागत किया। जिसके बाद मुख्यमंत्री भुपेश बघेल ने ग्राम में स्तिथ छछान छाड़ू देव मंदिर और माता बहादुर कलारिन मंदिर पहुच पूजा अर्चना की। जिसके पश्चात सीएम बघेल कार्यक्रम स्थल पहुचे और वहां माता बहादुर कलारिन के तैलचित्र पर दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। कार्यक्रम की शुरुआत राज्यगीत के साथ हुई। जिसके बाद सीएम बघेल में मंच से हाथ हिलाकर लोगों का अभिवादन किया। वही सामाजिक के पदाधिकारियों ने सीएम बघेल को हार पहनाकर स्वागत जोरदार स्वागत किया।

समाजिक भवन हेतु 50 लाख की घोषणा-
सीएम बघेल ने मंच से सम्बोधित करते हुए कहा कि 29 जगह गोबर से पेंट बनाने का प्रयास किया गया है। रूरल के बाद अब शहरी क्षेत्र में पार्क बनाये जाएंगे। ताकि युवाओं को रोजगार मिल सके। सोमवार को कैबिनेट बैठक है। जिसमें एक लघु नीति बनाई जाएगी। किसानो ने इस बार रिकार्ड तोड़ा है। हम तो चाहते है कि गर्मी के भी धान को खरीद ले। लेकिन केंद्र सरकार जो फाइल रोक कर बैठी है, केंद्र उसकी अनुमति दे। ताकि हम धान से पेट्रोल बना सके। कलेक्टर मुख्यमंत्री देखे, डॉक्टर मुख्यमंत्री देखे लेकिन सब कहते है की किसान मुख्यमंत्री नही देखे। 70 हजार हेक्टेयर में कोड़ो कुटकी की बोआई हुई है। हमारा रकबा, उत्पादन सब बढ़ा है। मिलेट्स को मध्यान भोजन में जोड़ने की अनुमति केंद्र ने दी है। वही सीएम ने ग्राम पंचायत सोरर में सरपँच की मांग पर 20 लाख रुपये सार्वजनिक भवन के लिए, 10 लाख रुपये सीसी रोड़ के लिए, ग्राम पंचायत अर्जुनी में भवन हेतु 10 लाख और समाज की मांग पर भवन बनाने हेतु 50 लाख रुपये देने की बड़ी घोषणा की।

विश्व में छत्तीसगढ़ का नाम गूंज रहा हैं- संगीता सिन्हा
विधायक संगीता सिन्हा ने मंच से संबोधन करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सभी वर्गों के लिए काम कर रहे है। चाहे महिला हो, या युवा हो या बुजुर्ग हो सभी वर्ग के लिए काम कर रहे हैं। विश्व में छत्तीसगढ़ का नाम गूंज रहा हैं। गोधन न्याय योजना को आज विदेशों में भी सराहा जा रहा है। बालोदगहन से झलमला तक नहर में डामरीकरण करने की मांग की है।

Spread the love