May 27, 2024

विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर श्री बालाजी इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस में चिकित्सा शिक्षा कार्यक्रम (सीएमई) का आयोजन

आजीवन स्वस्थ रहना है तो तंबाकू-सिगरेट से करें तौबा: डाक्टर देवेंद्र नायक
तंबाखू शरीर के लिए कितना घातक वक्ताओं ने रखे अपने विचार
लोगों को जागरूक करने छत्तीसगढ़ में तंबाखू के हानिकारक कारणों का पोस्टर विमोचन किया गया…..
रायपुर। विश्व तंबाकू निषेध दिवस पर श्रीबालाजी इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस में तंबाकू के सेवन से होने वाले बीमारियों और हानिकारक कारणों उसके छुटकारा पर चिकित्सा शिक्षा कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ श्रीबालाजी इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस के चेयरमैन डाक्टर देवेंद्र नायक एवं मैनेजिंग डायरेक्टर श्रीमती नीता नायक, डीन मानिक चटर्जी, डायरेक्टर नितिन पटेल ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। अपने अध्यक्षीय उद्बोघन में श्रीबालाजी इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस, श्री बालाजी मेडिकल फाउंडेशन और श्री बालाजी हापिस्टल के कम्युनिटी मेडिसीन विभाग और मेडिकल एज्युकेशन यूनिट के बैनर तले इस आयोजन की सराहना करते हुए कार्यक्रम में पधारे विशेषज्ञ डाक्टरों का स्वागत किया। डाक्टर देवेंद्र नायक ने समाज को सही दिशा देने और बच्चों को तंबाकू, सिगरेट, बीड़ी गुड़ाखू जैसे मादक पदार्थो से होने वाले बीमारियों के संबंध में जागरूक करने का बीड़ा उठाने वाले डाक्टरों की टीम को बधाई दी। इस अवसर पर चेयरमैन डाक्टर देवेंद्र नायक, डायरेक्टर श्रीमती नीता नायक, डा. नीरजा अग्रवाल एमईयू कोआर्डिनेटर, नितिन पटेल, डाक्टर विरेंद्र पटेल, हिमांशु साहू, भोजराम पटेल, डा. मनीष ए प्रसाद कम्युनिटी मेडिसीन, डा. प्रियंका साहू कम्युनिटी मेडिसीन, संदीप सुरीन छाती रोग विशेषज्ञ, डा. दिग्विजय सिंह एसोसिएट प्रोफेसर ईएनटी रिम्स,डा. कम्युनिटी मेडिसीन की विभागाध्यक्ष किरण माकड़े, डा. मानिक चटर्जी प्रोफेसर एंड डीन श्री बालाजी इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस, डा.सनत शर्मा प्रोफेसर एंड एचओडी फार्माकोलॉजी, डा. रंजन वाजपेयी, फोरेंसिक मेडिसीन, डा. शलाका मोहिरे, डा. कमलेश जैन प्रोफेसर कम्युनिटी मेडिसीन पं. जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज एंड स्टेट नोडल आफिसर, डा. शिल्पा जैन असिसटेंट प्रोफेसर गवर्नमेंट डेंटल मेडिकल कॉलेज, नेशनल एंड स्टेट ट्रैनर टैबेको कंट्रोल प्रोग्राम आदि मौजूद थे। इस अवसर पर छत्तीसगढ़ सरकार के तंबाकू डाटा पोस्टर का विमोचन किया गया। जिसमें सिगरेट, बीड़ी, तंबाकू, गुड़ाखू के सेवन करने शरीर में क्या प्रभाव पड़ता है। आदतन नशडिय़ों को नशा से कैसे छुटकारा दिलाया जा सकता है। इस पर विचार रखे गए। इस कार्यक्रम में मेडिकल फैकल्टी और छात्र भी शामिल हुए।

 
डाक्टर देवेंद्र नायक ने विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाने के पीछे उद्देश्यों को संक्षिप्त प्रतिपादित करते हुए कहा कि तंबाकू से विश्व में सबसे ज्यादा मैत होती है, जिसे रोकना डाक्टरों की पहली प्राथमिकता होनी चाहिए । तंबाकू कितना घातक है इसके आंकड़े हर साल डब्ल्यूएचओ जारी करता है जिसमें सबसे ज्यादा बारी भरकम आंकड़ा तंबाकू से मरने वालों का होता है। यह एक वैश्विक क्षति है, इसके रोकथाम के लिए हर साल 31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस मनाया जाता है। आज हम सभी यहां पर उन्हीं कारणों पर चिकित्सा शिक्षा जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया है। डा. नीरजा अग्रवाल ने तंबाकू के सेवन से महिला -पुरूष की आने वाली पीढ़ी भी प्रभावित होती है। डा. मनीष प्रसाद ने विश्वस्तरीय डाटा पेश जिससे तंबाकू, सिगरेट इलेक्ट्रानिक्स सिगरेट, गुड़ाखू के सेवन को हर हाल में रोकना होगा तभी आने वाली पीढ़ी का भविष्य सुरक्षित होगा। डा. प्रियंका साहू ने महिलाओं में शौकिया तौर पर इलेक्ट्रानिक्स सिगरेट पीने से क्या-क्या बीमारी हो सकती है इस प्रकार डाला।

 

Spread the love