June 21, 2024

श्री बालाजी हॉस्पिटल में नि:शुल्क गैस्ट्रो परामर्श शिविर को मिला अच्छा प्रतिसाद सैकड़ों लोगों ने पेट से संबंधित रोगों के निदान के लिए अग्रिम पंजीयन करवाया और जांच छूट का लाभ उठाया

रायपुर। मोवा स्थित श्री बालाजी हॉस्पिटल में शनिवार को गैस्ट्रो परामर्श शिविर में राजधानी सहित प्रदेश और आसपास के राज्यों के मरीजों ने शिविर में अग्रिम पंजीयन कराया और 405 गैस्ट्रो मरीज लाभांवित हुए। इस शिविर में विशेष रूप से श्रीबालाजी अस्पताल के गैस्टो डिपार्टमेंट से जुड़े सभी विशेषज्ञ डॉक्टर मौजूद थेे। जिसमें डॉ देवेंद्र नायक, डॉ पुष्पेंद्र नायक, डॉ विशाल राज सग्गर, डॉ राजेंद्र अग्रवाल, डॉ विनोद सिंह, डॉ एनएस गरड़ ने परीक्षण किया और परामर्श देकर फाइब्रोस्कैन. एडोस्कोपी जांच में 50 प्रतिशत छूट का लाभ दिलाया। शिविर में श्री बालाजी हॉस्पिटल के चेयरमैन डा. देवेंद्र नायक ने बताया कि इसके पहले भी अगस्त में सैकड़ों गर्भवती माताओं को डिलीवरी शुल्क के रूप में एक किलो मोदक की योजना को अच्छा परतिसाद मिला है जिसमें माताएं लाभांवित हुई। जिन माताओं को कन्या रत्न की प्राप्ति हुई उनसे शुल्क के रूप में भगवान गणेश को एक किलो मोदक प्रसाद स्वरूप अर्पित कराया गया। श्री बालाजी अस्पताल परिसर शिविर का शुभारंभ श्री बालाजी भगवान की पूजा अर्चना के साथ हुआ। सुबह 9 बजे से पंजीयन शुरू हुआ जो शाम 4 बजे तक पंजीयन का क्रम चलता रहा। जिसमें 405 मरीजों की पंजीकृत किए गए। लोगों की पेट से जुड़ी समस्याओं और रोगों के मरीजों के लिए नि:शुल्क परामर्श शिविर में लोगों ने अपनी पेट से संबंधित समस्याओं से डाक्टरों की टीम को अवगत कराया और शिविर में मिलने वाली छूट का लाभ उठाया है। अस्पताल के डायरेक्टर डॉ देवेंद्र नायक के मुताबिक इस शिविर में परामर्श नि:शुल्क था, साथ ही जांच के लिए 50 प्रतिशत की विशेष छूट दिया गया। वहीं फाइब्रोस्कैन और एंडोस्कोपी की जांच शिविर में नि:शुल्क थी। शिविर में आए मरीजों ने बताया कि श्रीबालाजी हॉस्पिटल के शिविर से हमें पेट संबंधी रोगों के निदान के लिए जो परामर्श दिए उससे हमें लाभ मिला है। श्री बालाजी हॉस्पिटल प्रदेश का पहला लिवर ट्रांसप्लांट सेंटर हैं जहां अब तक 8 सफल लिवर ट्रांसप्लांट हो चुके है। श्री बालाजी हॉस्पिटल में विश्वस्तरीय अत्याधुनिक तकनीक के व्दारा पेट के समस्त प्रकार के रोगों का इलाज और सर्जरी की सुविधा उपलब्ध है।

Spread the love