February 21, 2024

500वर्गमीटर तक के आवासीय प्लॉटस पर निर्माण हेतु तुरंत मिलेगी भवन अनुज्ञा

छत्तीसगढ़ के नगरीय निकायों में अब 1 सेकंड में जारी होगी भवन अनुज्ञा,छत्तीसगढ़ के नगर निगमों में लागू होगी डायरेक्ट भवन अनुज्ञा प्रणाली

सक्ती-छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा आज 03 जनवरी को मुख्यमंत्री निवास मे आयोजित कार्यक्रम मे नगरीय क्षेत्रों मे 500 वर्गमीटर तक के आवासीय प्लाट्स पर भवन निर्माण के लिए मानव हस्तक्षेप रहित ऑनलाईन डायरेक्ट भवन अनुज्ञा सिस्टम की शुरुआत की गई,इस अवसर पर विभागीय मंत्री डॉ शिवकुमार डहरिया, विभागीय सचिव सुश्री अलरमेलमंगई डी, सूडा के सीईओ सौमिल रंजन चौबे, एडिशनल सीईओ आशीष टिकरिहा एवं विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे। इसके अतिरिक्त सभी नगर निगम आयुक्त, महापौर एवं जनप्रतिनिधि भी वर्चुअल माध्यम से इस कार्यक्रम सम्मिलित हुए ।

इस अवसर पर रायपुर महापौर एजाज ढेबर , बिलासपुर महापौर रामशरण यादव, और दुर्ग महापौर धीरज बाकलीवाल द्वारा वर्चुअल माध्यम से बात कर अपनी अपनी बात रखी गयी और मुख्यमंत्री जी को धन्यवाद ज्ञापित किया,इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री बघेल द्वारा कहा गया कि गांव और शहरों के विकास के लिए हमने लगातार 3 वर्षों तक कार्य किया है इस सूची में एक और सुविधा जोड़ने जा रहे हैं, जिससे राज्य के शहरों के विकास में तेजी आयेगी और नागरिकों को एक बड़ी समस्या का प्रभावी समाधान मिलेगा,राज्य के नागरिक जो अपना घर बनाना चाहते हैं उनके लिए भवन अनुज्ञा एक अहम प्रक्रिया है, लेकिन ये प्रक्रिया इतनी आसान नहीं थी नागरिकों को इस सुविधा प्राप्ति के लिए काफी परेशानी हुआ करती थी। क्योंकि ये प्रकिया पूरी होने में लंबा समय लगा करता था नक्शा पास कराने के लिए यह प्रकिया कई अधिकारियों तक पहुंचा करती थी और उसके बाद नागरिक को घर बनाने के लिए भवन अनुज्ञा मिलती थी। लेकिन अब ये प्रकिया सब मानव हस्तक्षेप रहित होगी और जल्द जल्द से पूर्ण होगी । यदि आपके पास सभी दस्तावेज़ हैं तो अब आपको अपना घर बनाने के लिए कहीं भी चक्कर लगाने की जरूरत नहीं। घर बनाने के लिए नागरिकों इससे बड़ी सुविधा और कहां प्राप्त होगी

विभाग को निर्देश –

नागरिकों की समस्या को देखते हुए उसके समाधान हेतु मैंने 15 दिन पहले अधिकारियों को निर्देश दिया था और विभाग ने 15 दिन के भीतर ही कार्य को पूर्ण कर लिया। इस कार्य के लिए सभी बधाई के पात्र हैं। साथ ही नागरिकों को भी मैं बधाई देता हूं कि उनके घर कार्य का निर्माण भी अब जल्द पूरा हो सकेगा,कार्यक्रम के दौरान विभागीय सचिव द्वारा अनुज्ञा प्रणाली के संबंध में प्रस्तुतिकरण किया गया।

विभागीय मंत्री डॉ शिवकुमार डहरिया द्वारा बताया गया कि

भवन अनुज्ञा प्रणाली से संबंधित सभी समस्याओं एवं उनके समाधानों पर चर्चा कर इस सिस्टम में जनप्रतिनिधियों आयुक्त एवं इंजीनियर हेतु अलग अलग देशबोर्ड बनाया गया है जिसमें दैनिक प्राप्त आवेदन स्वीकृति अनुज्ञा एवं लम्बित प्रकरण की जानकारी उपलब्ध होगी। दस्तावेज की मांग वाले सभी 100 प्रतिशत केस का ऑडिट एवं भवन अनुज्ञा निरस्त होने वाले प्रत्येक केस का निकाय से राज्य स्तर तक एसएमएस द्वारा सूचना एवं उच्चस्तरीय समीक्षा का प्रावधान है। डायरेक्ट भवन अनुज्ञा प्रणाली के संबंध में राज्य स्तरीय कार्यशाला के माध्यम से सभी नगर निगमों के आयुक्तों, भवन अधिकारियों, बिल्डिंग इस्पेक्टर एवं अन्य अधिकारियों को नवीन सिस्टम के संबंध में प्रशिक्षण दिया गया है।,इस नवीन प्रणाली में हमने नागरिकों पर भरोसा जताया है और आवेदक द्वारा दिए गए दस्तावेजो एवं शपथ पत्र के आधार पर ही अनुज्ञा जारी की जा रही है, मुख्यमंत्री जी द्वारा अपील की गयी कि आम नागरिक इस सेवा का लाभ सही तरीके से लेंगे और सही जानकारी के आधार पर ही भवन अनुज्ञा प्राप्त करेंगे। कार्यक्रम में वर्चुअल माध्यम से सम्मिलित हुए महापौर एवं जनप्रतिनिधियों से अनुरोध किया कि अधिक से अधिक इस सिस्टम का प्रचार प्रसार करते हुए नागरिकों को भवन अनुज्ञा प्राप्त कर ही अपने घर का निर्माण करने प्रोत्साहित करेंगे और शहरों के अनुशासित विकास एवं भवनों के अव्यवस्थित निर्माण पर नियंत्रण में अपना सहयोग प्रदान करेंगे।

Spread the love