May 27, 2024

शक्ति के सरकारी जिला अस्पताल में सफल सिजेरियन ऑपरेशन से हुए जुड़वा बच्चे, शासकीय अस्पताल में स्वास्थ्य सुविधाओं के मामले में हो रहा बेहतर, 1500 संस्थागत प्रसव के साथ ही 38 सिजेरियन ऑपरेशन भी हो चुके हैं अस्पताल में

सक्ति- नवगठित शक्ति जिले की कलेक्टर आईएस नूपुर राशि पन्ना एवं जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर सूरज राठौर की मेहनत रंग लाने लगी है, शहर के शासकीय जिला अस्पताल में जहां आम नागरिकों को डिलीवरी के दौरान ऑपरेशन की भी बेहतर सुविधाएं मिलना प्रारंभ हो गई है, तो वही 18 मार्च को सक्ती स्थित मातृत्व एवं शिशु अस्पताल में सफल सिजेरियन ऑपरेशन से जुड़वा बच्चों की डिलीवरी कराई गई, अस्पताल प्रबंधन से प्राप्त जानकारी अनुसार सुवाडेरा निवासी गर्भवती माता हाई रिस्क प्रेगनेंसी के रूप चिन्हाकित किया जा चुका था तथा स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी लगातार इस गर्भवती माता का प्रसव पूर्व जांच कर रहे थे ताकि गर्भवती माता को किसी भी तरह का खतरा न हो और 18 मार्च को गर्भस्थ शिशु के ब्रीच प्रेजेंटेशन में आ जाने से प्रसव जटिल हो गया तथा सिजेरियन ऑपरेशन की आवस्यकता हेतु हायरिंग एनस्थेटिक चिकित्सक तत्काल बुलाकर सफल सिजेरियन ऑपरेशन किया गया और जुड़वा बच्चों की सुरक्षित डिलिवरी कराई गई दोनो नवजात शिशु तथा माता पूर्ण स्वस्थ्य हैं गर्भस्थ जुड़वा शिशु पहला 2kg तथा दूसरा 2 Kg वजन के हैं,विगत तीन महीने में सक्ती जिला प्रशासन के प्रयासों से स्वास्थ्य सुविधा में सुधार आने लगा है।
पिछले तीन महीने में सक्ती जिले में 1500 संस्थागत प्रसव हुए हैं तथा एमसीएच अस्पताल सक्ती में 38 सिजेरियन ऑपरेशन 122 महिला नसबंदी ऑपरेशन हुए हैं। आम जनों को अब प्रसव हेतु जिले के बाहर के शासकीय और निजी अस्पतालों निर्भर नहीं रहना पड़ रहा है हालाकि जिला मुख्यालय सक्ती में स्थित मातृत्व एवं शिशु अस्पताल में सोनोग्राफी मशीन , एनेस्थिटिक चिकित्सक और ब्लड बैंक के अभाव में कुछ हाई रिस्क प्रेगनेंसी केसेस को बाहर रेफर जाना पड़ रहा है,  इस समस्या के निदान के लिए जिला स्वास्थ्य समिति प्रायसरत है

Spread the love